TIME IS MONEY

India

MY VIEWS..............


I made this widget at MyFlashFetish.com.

What are you thinking about the contents of my BLOG?

Thursday, November 4, 2010

पावन पर्व दीवाली




दीप-दीप से ज्योति छ्लकता,
घर-घर में फैली उजियारी;
तिल-तिल से है तेज फूटता, 
पावन पर्व दीवाली आई. 
यह चेतना की ज्वार बनी, 
यह मुखमंडल की है लाली, 
तमस-तो को तिरोहित करने, 
पावन पर्व दीवाली आई. 
यह चरण-चिन्‍ह है विजय का 
और उम्मीदों की है बाती,
धूमिल धरा उद्भासित करने, 
पावन पर्व दीवाली आई. 
यह समाधान है सघन रात की, 
बन अंत अमा की आई,
उद्दाम लालसा जीवन का लेकर,
पावन पर्व दीवाली आई. 
यह आलोक अन्वेषी मानव के,
गाथा है अन्वेषण की, 
स्नेह सुधा से सिक्त वसुधा पे,
श्रिगार है दीप मालाओं की. 
यह चाँद सितारों को शर्माती
जो चमक रही बल औरों के,
अपने उज्ज्वल ज्योति से ज्योतित करने, 
आई है ये आतल पे. 
आज भी खुशियाँ सहमती
उन लाखों परिवारों से,
जहाँ माटी के दिए नदारत
और चूल्‍हे ठंढी सालों से. 
वो क्या जाने क्या होती है
होली और वैशाखी 
सहम जहाँ से लौट आती है
खुशियों भरी दीवाली. 
यह दीनता के दहन का दिन लाया,
यह वैभव की है निशानी, 
अमीरी-गरिवी का भेद मिटाने
पावन पर्व दीवाली आई.
मैत्री-मम्त्व से सनी भारत भू पर
पर्वों की प्रीत निराली,
वन,उपवन,मन सुरभित करने 
पवन पर्व दीवाली आई. 
 
:-कन्हैया कुमार 

2 comments:

  1. 'असतो मा सद्गमय, तमसो मा ज्योतिर्गमय, मृत्योर्मा अमृतं गमय ' यानी कि असत्य की ओर नहीं सत्‍य की ओर, अंधकार नहीं प्रकाश की ओर, मृत्यु नहीं अमृतत्व की ओर बढ़ो ।

    दीप-पर्व की आपको ढेर सारी बधाइयाँ एवं शुभकामनाएं ! आपका - अशोक बजाज रायपुर

    ReplyDelete
  2. दीपावली का ये पावन त्‍यौहार,
    जीवन में लाए खुशियां अपार।
    लक्ष्‍मी जी विराजें आपके द्वार,
    शुभकामनाएं हमारी करें स्‍वीकार।।

    ReplyDelete